घर

मिले ज़िन्दगी मे चाहे ठोकरे कई,
लम्बे हो अनजाने कितने सफर.
दुनिया मे चाहे कही भी रहूँ,
मन का एक कोना पुकारता है "घर".

# नितिन

Comments

Popular posts from this blog

पता परिवर्तन सूचना

परिवर्तन

मैं